Archaeology (5)

Showing all 5 results

Sort by:
  • Sale!
    img-book
    Quick View
    A Catalogue of Prehistoric Tools by: D.K. Bhattacharya 1,000.00 900.00

    This monograph ‘A Catalogue of Prehistoric Tools‘ is a unique presentation of a rare and important collection donated by Late Dr. A.P. Khatri to the Indraprastha Museum of Art and Archaeology, New Delhi. The entire collection comprises of thousands of prehistoric tools from different parts of the world including rich river (Narmada, Godavari etc.) valley collection from India.
    A selection of the representative types has been made from most of the sites distributed in four continents of the world namely, Europe, Africa, Asia and America. These tools are included in the catalogue and elaborately described with good line drawings. In some cases notes are also given to place the collection in their proper context. Appendices with relevant information and maps are to highlight the text. Colour photographs of all these tools are illustrated in the plates at the end.
    An introduction ‘A Brief Survey of World Prehistory‘ has been provided as background study.
    The catalogue will enormously benefit the scholars, researchers and students of Prehistoric Archaeology

  • Sale!
    img-book

    Volume four contains 1344 records on South and Southeast Asia selected out of 1800 records from the ABIA South and Southeast Asian Art and Archaeology Index database. Volume four has been compiled by the ABIA project team at IGNCA New Delhi. It includes all forms of scholarly publications, ranging from survey works to small but important articles in composite books and journals published in India between 2006 and 2011. Subjects include pre- and protohistory, historical archaeology, ancient art history, modern art history, material culture, epigraphy and palaeography, numismatics and sigillography (seals). The bibliographic descriptions (with the original diacritics), keywords and annotations have made this reference work a reliable guide to recently published scholarly work in the field.

    Quick View
    ABIA by: Asha Gupta 2,100.00 1,890.00

    Volume four contains 1344 records on South and Southeast Asia selected out of 1800 records from the ABIA South and Southeast Asian Art and Archaeology Index database. Volume four has been compiled by the ABIA project team at IGNCA New Delhi. It includes all forms of scholarly publications, ranging from survey works to small but important articles in composite books and journals published in India between 2006 and 2011. Subjects include pre- and protohistory, historical archaeology, ancient art history, modern art history, material culture, epigraphy and palaeography, numismatics and sigillography (seals). The bibliographic descriptions (with the original diacritics), keywords and annotations have made this reference work a reliable guide to recently published scholarly work in the field.

  • Sale!
    img-book

    Journal of Indian Ocean Archaeology was launched in 2003 by one of India’s leading academic institutions, the Centre for Research & Training in History, Archaeology and Palaeo-environment, New Delhi. The second issue is in the Press. The Journal is an outcome of the realization on the part of the international community of archaeologists and historians that India has no journal devoted exclusively to the archaeology of the Indian Ocean Rim countries, starting from the Red Sea through the South China Sea, although Indian occupies the central position in this vast area, with three-fourths of its land facing the gulfs and bays of the Indian Ocean. It is common knowledge that Egypt, Ethiopis, Kenya, Arabia, Yemen, Oman, Bahrain and countries bordering the Persian Gulf, including Iraq and Iran, as well as Pakistan, Sri Lanka, Myanmar, Thailand, Cambodia, Indonesia, Malaysia, China, were closely connected with each other through long-distance sea-borne trade-routes for thousands of years. This particular phenomenon had led to the development of what is now generally called ‘Shared Culture’ with its distinct personality which is Afro-Asian. It is reflected in the material items dug up every year at a number of sites in India and all other countries along the coasts of the Indian Ocean. This journal embodies the results of explorations and excavations conducted by scholars in various countries which witnessed the growth of the personality of the shared culture of the Indian Ocean Rim countries, including the countries of Southwest Asia. It also includes all aspects of cultural, economic and socio-political histories of these countries. The contributors to this journal are from all over the world. It is a MUST for every scholar and layman interested in the history and arachaeology of the coastal countries of the Indian Ocean, from Africa, and West Asia through China.

    Quick View
    Journal of Indian Ocean Archaeology No. 10-11 (2014-15) by: Sunil Gupta 2,000.00 1,800.00

    Journal of Indian Ocean Archaeology was launched in 2003 by one of India’s leading academic institutions, the Centre for Research & Training in History, Archaeology and Palaeo-environment, New Delhi. The second issue is in the Press. The Journal is an outcome of the realization on the part of the international community of archaeologists and historians that India has no journal devoted exclusively to the archaeology of the Indian Ocean Rim countries, starting from the Red Sea through the South China Sea, although Indian occupies the central position in this vast area, with three-fourths of its land facing the gulfs and bays of the Indian Ocean. It is common knowledge that Egypt, Ethiopis, Kenya, Arabia, Yemen, Oman, Bahrain and countries bordering the Persian Gulf, including Iraq and Iran, as well as Pakistan, Sri Lanka, Myanmar, Thailand, Cambodia, Indonesia, Malaysia, China, were closely connected with each other through long-distance sea-borne trade-routes for thousands of years. This particular phenomenon had led to the development of what is now generally called ‘Shared Culture’ with its distinct personality which is Afro-Asian. It is reflected in the material items dug up every year at a number of sites in India and all other countries along the coasts of the Indian Ocean. This journal embodies the results of explorations and excavations conducted by scholars in various countries which witnessed the growth of the personality of the shared culture of the Indian Ocean Rim countries, including the countries of Southwest Asia. It also includes all aspects of cultural, economic and socio-political histories of these countries. The contributors to this journal are from all over the world. It is a MUST for every scholar and layman interested in the history and arachaeology of the coastal countries of the Indian Ocean, from Africa, and West Asia through China.

  • Sale!
    img-book

    भारतीय पुरातत्त्व परिषद्, नई दिल्ली, के द्वारा प्रकाशित पुरातत्त्व िवज्ञान से सम्बन्धित ‘पुराप्रवाह’ नामक वार्षिक पत्रिका देश में यू॰जी॰सी॰ से मान्यता प्राप्त अकेली हिन्दी की सारगर्भित शोधपत्रिका है जो पुरातत्त्व के विषयाें तथा ऐतिहासिक शोधकार्याें से सम्बन्ध रखती है।
    यह वार्षिक पत्रिका विद्वत समीक्षक मण्डल द्वारा अवलोकित होती है तथा इस पत्रिका में प्रकाशित हाेने से पूर्व आलेख काे वरिष्ठ पुरातत्त्ववेत्ताओं एवं उस विषय के विशेषज्ञों को विचारार्थ स्वीकार करने हेतु भेजा जाता है।
    इस पत्रिका का प्रकाशन मूलतः राजभाषा व राष्ट्रभाषा हिंदी में पुरातत्त्व के साहित्य को मान्यता देने हेतु एक सार्थक व सशक्त माध्यम है तािक देश की युवा पीढ़ी के पुरातत्त्वज्ञों को अन्वेषणपरक शोध-निबन्धों के लेखन काे िहन्दी में िलखने की प्रेरणा िमल सके। इससे आने वाले समय में पाठकांे के पास पुरातत्त्व सम्बन्धित हिन्दी की सामग्री पर्याप्त रूप से होगी, जो विद्यार्थियों को शोधकार्य करने में अत्यंत सहायक िसद्ध होगी और उन्हें अंग्रेज़ी की पत्रिकाओं एवं पुस्तकों पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा।
    ‘पुराप्रवाह’ में पुरातत्त्व विज्ञान, इतिहास, अभिलेखिकी, मुद्राशास्त्र, पुरातात्त्विक अन्वेषण, प्रागैतिहासिक युग से सम्बन्धित सामग्री, भारतीय संस्कृति, कला और साहित्य का पुरातत्त्व से अन्यान्योश्रय सामंजस्य जैसे विषयों को समाहित करने का प्रयत्न किया है। इसके अतिरिक्त इस वार्षिक पत्रिका में संग्रहालय-विज्ञान, प्राचीन भारतीय धरोहर, वेद-पुराणों से सम्बद्ध महागाथाओं तथा परम्परागत लोकगाथाओं के लेख भी समािहत करने का प्रावधान रखा गया है।
    हमें आशा और विश्वास है कि यह शोध-पत्रिका शीघ्र ही पुरातात्त्विक जगत् में अपनी पहचान बना लेगी।

    Quick View
    Purapravaha Vol 1 by: Budhrashim, Asha Joshi, 2,000.00 1,800.00

    भारतीय पुरातत्त्व परिषद्, नई दिल्ली, के द्वारा प्रकाशित पुरातत्त्व िवज्ञान से सम्बन्धित ‘पुराप्रवाह’ नामक वार्षिक पत्रिका देश में यू॰जी॰सी॰ से मान्यता प्राप्त अकेली हिन्दी की सारगर्भित शोधपत्रिका है जो पुरातत्त्व के विषयाें तथा ऐतिहासिक शोधकार्याें से सम्बन्ध रखती है।
    यह वार्षिक पत्रिका विद्वत समीक्षक मण्डल द्वारा अवलोकित होती है तथा इस पत्रिका में प्रकाशित हाेने से पूर्व आलेख काे वरिष्ठ पुरातत्त्ववेत्ताओं एवं उस विषय के विशेषज्ञों को विचारार्थ स्वीकार करने हेतु भेजा जाता है।
    इस पत्रिका का प्रकाशन मूलतः राजभाषा व राष्ट्रभाषा हिंदी में पुरातत्त्व के साहित्य को मान्यता देने हेतु एक सार्थक व सशक्त माध्यम है तािक देश की युवा पीढ़ी के पुरातत्त्वज्ञों को अन्वेषणपरक शोध-निबन्धों के लेखन काे िहन्दी में िलखने की प्रेरणा िमल सके। इससे आने वाले समय में पाठकांे के पास पुरातत्त्व सम्बन्धित हिन्दी की सामग्री पर्याप्त रूप से होगी, जो विद्यार्थियों को शोधकार्य करने में अत्यंत सहायक िसद्ध होगी और उन्हें अंग्रेज़ी की पत्रिकाओं एवं पुस्तकों पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा।
    ‘पुराप्रवाह’ में पुरातत्त्व विज्ञान, इतिहास, अभिलेखिकी, मुद्राशास्त्र, पुरातात्त्विक अन्वेषण, प्रागैतिहासिक युग से सम्बन्धित सामग्री, भारतीय संस्कृति, कला और साहित्य का पुरातत्त्व से अन्यान्योश्रय सामंजस्य जैसे विषयों को समाहित करने का प्रयत्न किया है। इसके अतिरिक्त इस वार्षिक पत्रिका में संग्रहालय-विज्ञान, प्राचीन भारतीय धरोहर, वेद-पुराणों से सम्बद्ध महागाथाओं तथा परम्परागत लोकगाथाओं के लेख भी समािहत करने का प्रावधान रखा गया है।
    हमें आशा और विश्वास है कि यह शोध-पत्रिका शीघ्र ही पुरातात्त्विक जगत् में अपनी पहचान बना लेगी।

  • Sale!
    img-book

    भारतीय पुरातत्त्व परिषद्, नई दिल्ली, के द्वारा प्रकाशित पुरातत्त्व िवज्ञान से सम्बन्धित ‘पुराप्रवाह’ नामक वार्षिक पत्रिका देश में यू॰जी॰सी॰ से मान्यता प्राप्त अकेली हिन्दी की सारगर्भित शोधपत्रिका है जो पुरातत्त्व के विषयाें तथा ऐतिहासिक शोधकार्याें से सम्बन्ध रखती है।
    यह वार्षिक पत्रिका विद्वत समीक्षक मण्डल द्वारा अवलोकित होती है तथा इस पत्रिका में प्रकाशित हाेने से पूर्व आलेख काे वरिष्ठ पुरातत्त्ववेत्ताओं एवं उस विषय के विशेषज्ञों को विचारार्थ स्वीकार करने हेतु भेजा जाता है।
    इस पत्रिका का प्रकाशन मूलतः राजभाषा व राष्ट्रभाषा हिंदी में पुरातत्त्व के साहित्य को मान्यता देने हेतु एक सार्थक व सशक्त माध्यम है तािक देश की युवा पीढ़ी के पुरातत्त्वज्ञों को अन्वेषणपरक शोध-निबन्धों के लेखन काे िहन्दी में िलखने की प्रेरणा िमल सके। इससे आने वाले समय में पाठकांे के पास पुरातत्त्व सम्बन्धित हिन्दी की सामग्री पर्याप्त रूप से होगी, जो विद्यार्थियों को शोधकार्य करने में अत्यंत सहायक िसद्ध होगी और उन्हें अंग्रेज़ी की पत्रिकाओं एवं पुस्तकों पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा।
    ‘पुराप्रवाह’ में पुरातत्त्व विज्ञान, इतिहास, अभिलेखिकी, मुद्राशास्त्र, पुरातात्त्विक अन्वेषण, प्रागैतिहासिक युग से सम्बन्धित सामग्री, भारतीय संस्कृति, कला और साहित्य का पुरातत्त्व से अन्यान्योश्रय सामंजस्य जैसे विषयों को समाहित करने का प्रयत्न किया है। इसके अतिरिक्त इस वार्षिक पत्रिका में संग्रहालय-विज्ञान, प्राचीन भारतीय धरोहर, वेद-पुराणों से सम्बद्ध महागाथाओं तथा परम्परागत लोकगाथाओं के लेख भी समािहत करने का प्रावधान रखा गया है।
    हमें आशा और विश्वास है कि यह शोध-पत्रिका शीघ्र ही पुरातात्त्विक जगत् में अपनी पहचान बना लेगी।

    Quick View
    Purapravaha Vol 2 by: Budhrashim, Asha Joshi, 2,000.00 1,800.00

    भारतीय पुरातत्त्व परिषद्, नई दिल्ली, के द्वारा प्रकाशित पुरातत्त्व िवज्ञान से सम्बन्धित ‘पुराप्रवाह’ नामक वार्षिक पत्रिका देश में यू॰जी॰सी॰ से मान्यता प्राप्त अकेली हिन्दी की सारगर्भित शोधपत्रिका है जो पुरातत्त्व के विषयाें तथा ऐतिहासिक शोधकार्याें से सम्बन्ध रखती है।
    यह वार्षिक पत्रिका विद्वत समीक्षक मण्डल द्वारा अवलोकित होती है तथा इस पत्रिका में प्रकाशित हाेने से पूर्व आलेख काे वरिष्ठ पुरातत्त्ववेत्ताओं एवं उस विषय के विशेषज्ञों को विचारार्थ स्वीकार करने हेतु भेजा जाता है।
    इस पत्रिका का प्रकाशन मूलतः राजभाषा व राष्ट्रभाषा हिंदी में पुरातत्त्व के साहित्य को मान्यता देने हेतु एक सार्थक व सशक्त माध्यम है तािक देश की युवा पीढ़ी के पुरातत्त्वज्ञों को अन्वेषणपरक शोध-निबन्धों के लेखन काे िहन्दी में िलखने की प्रेरणा िमल सके। इससे आने वाले समय में पाठकांे के पास पुरातत्त्व सम्बन्धित हिन्दी की सामग्री पर्याप्त रूप से होगी, जो विद्यार्थियों को शोधकार्य करने में अत्यंत सहायक िसद्ध होगी और उन्हें अंग्रेज़ी की पत्रिकाओं एवं पुस्तकों पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा।
    ‘पुराप्रवाह’ में पुरातत्त्व विज्ञान, इतिहास, अभिलेखिकी, मुद्राशास्त्र, पुरातात्त्विक अन्वेषण, प्रागैतिहासिक युग से सम्बन्धित सामग्री, भारतीय संस्कृति, कला और साहित्य का पुरातत्त्व से अन्यान्योश्रय सामंजस्य जैसे विषयों को समाहित करने का प्रयत्न किया है। इसके अतिरिक्त इस वार्षिक पत्रिका में संग्रहालय-विज्ञान, प्राचीन भारतीय धरोहर, वेद-पुराणों से सम्बद्ध महागाथाओं तथा परम्परागत लोकगाथाओं के लेख भी समािहत करने का प्रावधान रखा गया है।
    हमें आशा और विश्वास है कि यह शोध-पत्रिका शीघ्र ही पुरातात्त्विक जगत् में अपनी पहचान बना लेगी।

X